एलटीसी पर राजधानी/शताब्दी/दुरंतो ट्रेन के फ्लैक्सी किरायों का भुगतान, 9 सितम्बर, 2016 से मिलेगा लाभ

एलटीसी पर राजधानी/शताब्दी/दुरंतो ट्रेन के फ्लैक्सी किरायों का भुगतान, 9 सितम्बर, 2016 से मिलेगा लाभ

केन्द्र सरकार ने अपने कर्मचारियों को एल.टी.सी. पर राजधानी/शताब्दी/दुरंतो ट्रेन के फ्लैक्सी किरायों के भुगतान करने की घोषणा करते हुए एक बड़ा तोहफा दिया है।

rajdhani-shatabdi-duranto-flexi-fare-reimbursement-on-ltc

मोदी सरकार ने एक और बड़ा फैसला लेकर अपने अधीन काम करने वाले करीब 50 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग के भत्ते को लागू करने से पहले एक और बड़ा तोहफा देकर रिझाने की कोशिश की है. अब राजधानी / शताब्दी / दुरंतो गाड़ियों में लागू फ्लेक्सी किराये का भुगतान कर्मचारियों के एलटीसी द्वारा की गई यात्रा के लिए भी किया जाएगा।  जब तत्काल चार्जेज और प्रीमियम ट्रेन के किराये के भुगतान एल.टी.सी. में स्वीकार्य नहीं है तब ऐसे में राजधानी/शताब्दी/दुरंतो जैसी महंगी गाड़ियों के फ्लैक्सी किराये के भुगतान की घोषणा केन्द्रीय कर्मचारियों के लिए एक बहुत बड़ी राहत के समान है।

सरकार ने इस मामले को वित्त मंत्रालय की व्यय विभाग, से परामर्श तथा जांच करके यह निर्णय लिया है। कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) ने 17 अप्रैल को कार्यालय ज्ञापन जारी कर केंद्र के सभी सरकारी विभागों को निर्देश दिया है की, उपर्युक्त निर्णय, यानी रेलवे द्वारा फ्लेक्सी-फेयर सिस्टम को पेश करने की तिथि, 9 सितंबर, 2016 से प्रभावी रूप से लागू होगा।  यानि जिन लोगों को अबतक फ्लैक्सी किराये का भुगतान नहीं किया गया है वे भी इस अब इसका भुगतान ले सकते हैं, डीओपीटी ने अपने कार्यालय ज्ञापन में इसके स्पष्ट निर्देश जारी किए हैं।

इसके साथ ही गैर हकदार वैसे कर्मचारी जो सस्ते हवाई यात्रा का लाभ एलटीसी पर लेना चाहते हैं उनके लिए डीओपीटी ने इस मामले में कोई राहत नहीं दी है। डीओपीटी के स्पष्टीकरण के अनुसार एलटीसी यात्रा पर यह फ्लैक्सी किराया उन मामलों में स्वीकार्य नहीं होगा, जहां एक गैर हकदार सरकारी कर्मचारी, हवाई द्वारा यात्रा करता है और सरकार द्वारा उसे राजधानी / शताब्दी / दुरांतो गाड़ियों के उसके अपने हकदार वर्ग के किराए के बराबर तक की राशि का भुगतान सरकार द्वारा किया जाता है।  ऐसे सरकारी कर्मचारियों को उक्त ट्रेन के फ्लेक्सी किराया के घटकों को घटाकर हवाई किराये के बराबर या उससे राजधानी/शताब्दी/दुरंतो ट्रेन के किराये की प्रतिपूर्ति मिलेगी.

जानकारी के लिए बता दें कि रेलवे बोर्ड के परिपत्र सं. 46/2016 के दिनांक 07.09.2016 को, रेल मंत्रालय ने राजधानी / शताब्दी / दुरोन्टा गाड़ियों में एक फ्लेक्सि-फेयर सिस्टम पेश किया. जिसके तहत शताब्दी, दुरंतो और राजधानी ट्रेनों के पैसेंजर्स को 9 सितंबर से ज्यादा किराया चुकाना होता है. रेलवे ने इन ट्रेनों में फ्लेक्सी किराया सिस्टम लागू किया है, इसके तहत डिमांड के साथ ही किराया भी बढ़ता जाता है. किराया बढ़ाने के लिए 10 फीसदी के स्लैब बनाए गए हैं। पहली 10 फीसदी सीटों पर तो मूल किराया ही लिया जाएगा लेकिन इन सीटों के फुल होते ही अगली 10 फीसदी सीटों के लिए 10 फीसदी किराया ज्यादा देना पड़ता है. इस तरह से 10-10 फीसदी के अनुपात में 10 फीसदी किराया तब तक बढ़ता जाएगा, जब तक यह 50 फीसदी तक न पहुंच जाए। इस तरह से ट्रेन के आधे पैसेंजर्स को तो पचास फीसदी अधिक किराया देना पड़ता है.

कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) के इस महत्वपूर्ण आदेश को डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए लिंक को क्लिक करें

No comments