ई-कॉमर्स कंपनी की मनमानी का इलाज: यहाँ पर शिकायत करे त्वरित निपटारा होगा

ई-कॉमर्स कंपनी से खरीदा गया सामान खराब निकलता है और कंपनी आपकी एक नहीं सुन रही है तो क्या करें? हालांकी, उपभोक्ता फोरम में इसकी शिकायत हो सकती है लेकिन यह रास्ता लंबा है. लेकिन यदि कार्मिक मंत्रलय के शिकायत पोर्टल पर शिकायत करें तो समाधान जल्दी निकल जाएगा.

complaint-on-pg-portal-against-e-commerce

नई दिल्ली 16 मई :  यदि ई-कॉमर्स कंपनी से खरीदा गया सामान खराब निकलता है और कंपनी आपकी एक नहीं सुन रही है तो क्या करें? वैसे उपभोक्ता फोरम में इसकी शिकायत हो सकती है लेकिन यह रास्ता लंबा है. लेकिन यदि कार्मिक मंत्रलय के शिकायत पोर्टल पर शिकायत करें तो समाधान जल्दी निकल जाएगा. जी हां, पीजी पोर्टल पर आ रही लाखों शिकायतों का त्वरित निस्तारण हो रहा है. कार्मिक राज्यमंत्री जितेन्द्र सिंह बताते हैं कि तेलंगाना के टी. विनोद कुमार ने स्नैपडील से मिक्सर खरीदा. लेकिन वह खराब निकला। बार-बार शिकायत के बावजूद स्नैपडील ने इसे नहीं बदला तो उससे पीजी पोर्टल पर शिकायत की. पीजी पोर्टल से यह शिकायत उपभोक्ता मंत्रलय को भेजी गई और मंत्रलय के हस्तक्षेप के बाद स्नैपडील ने मिक्सर की पूरी कीमत कुमार को लौटाई. कार्मिक मंत्री कभी-कभी शिकायतकर्ताओं को फोन कर खुद भी जायजा लेते हैं। इस मामले में उन्होंने विनोद कुमार से बात की तो उसने सरकार के इस प्रयास की सराहना व्यक्त की।सिंह ने यहां संवादताताओं से बातचीत में कहा कि ऐसे कई मामले हैं. सेवानिवृत्त कर्नल जी. प्रताप राजू की मां को फैमिली पेंशन इसलिए नहीं मिल पा रही थी क्योंकि दस्तावेजों में उनका नाम नहीं था. वर्ष 2010 से वे इसके लिए संघर्ष कर रहे थे.
कार्मिक मंत्रलय के शिकायत पोर्टल पर शिकायत करने के लिए यहाँ क्लिक करे 

No comments