रेलवे द्वारा अपने कर्मचारियों को तोहफा- हेल्‍पर अब 2 साल में ही टेक्‍नीशियन बन सकेंगे

नई दिल्ली, 11 मई: रेलवे बोर्ड ने एक आदेश जारी करते हुए कहा है कि अब अपरेंटिस अधिनियम में निर्धारित योग्यता रखने वाले, हेल्‍पर न्यूनतम दो साल की नियमित सेवा में ही टेक्‍नीशियन बन सकेंगे.

railway-reduce-in-residency-period-for-helper

रेलवे के उप निदेशक मीणा के हस्‍ताक्षर से जारी आदेश में यह व्‍यवस्‍था दी गयी है कि अब, हेल्पर (ग्रेड पे 1800, लेवल -1, 16000-56900) से 2 साल में ही तकनीशियन-III (ग्रेड पे 1900, लेवल -2, 19900-63200)  प्रमोशन पा सकेंगे.


रेलवे के मौजूदा प्रावधान के अनुसार ग्रेड पे 1800, लेवल -1 में विद्यमान  न्यूनतम तीन साल की नियमित सेवा वाले हेल्पर्स जो अपरेंटिस अधिनियम में निर्धारित योग्यता रखते हैं, 25% कोटा में चयन में के योग्य थे।

रेलवे युनयिनो  ने पी एन एम बैठक में मामला उठाते हुए मांग किया था कि अन्य श्रेणियों के पदों के लिए पदोन्नति की अवधि के बराबर ही, मौजूदा तीन वर्ष से दो वर्ष तक रेसीडेंसी अवधि किया जाए.

तदनुसार, इस मामले की जांच रेलवे बोर्ड के क्षेत्रीय रेलवे, पीयूएस और तकनीकी निदेशकों के साथ की गई, और यह निर्णय लिया गया है कि 25% कोटा में चयन के लिए तीन साल की अवधि के स्थान पर दो साल की अवधि चयन के लिए मान्य होगा.

ज्ञातव्‍य है कि 1800 ग्रेड पे में सबसे नीचली स्‍तर के कर्मचारी है आते हैं उनमें पढे लिखे कार्मिकों को प्रोत्न्‍नत‍ि का अवसर देना सचमुच हर्ष का विषय है.

रेलवे के आदेश को पढ़ने के लिए http://www.staffnews.in/2017/05/reduction-in-residency-period-for.html के लिंक को क्लिक करें.

No comments