Withdrawal of empanelled hospitals from ECHS

Withdrawal of empanelled hospitals from ECHS

GOVERNMENT OF INDIA
MINISTRY OF DEFENCE
RAJYA SABHA
QUESTION NO 1450

ANSWERED ON 01.01.2018

Withdrawal of empanelled hospitals from ECHS

1450 Shri Rajeev Chandrasekhar
withdrawal-of-empanelled-hospitals-from-echs-hindi-paramnews

Will the Minister of DEFENCE be pleased to state :-

(a) whether empanelled hospitals in the ex-servicemen Contributory Health Scheme (ECHS) are withdrawing from the scheme;

(b) if so, the details thereof and the reasons therefor;

(c) whether Government has received complaints from ex-servicemen regarding non-admission of patients by hospitals demanding advance payments; and

(d) if so, the details thereof and the action taken by Government against such hospitals?

ANSWER

MINISTER OF STATE IN THE MINISTRY OF DEFENCE

DR. SUBHASH BHAMRE

(a) & (b): Yes, Sir. 169 Hospitals have not signed / renewed Memorandum of Agreement for more than a period of one year due to following reasons:-

(i) Low CGHS rates.

(ii) No reply to queries raised by ECHS on medical bills which resulted in rejection of bills.

In addition to above, Medanta Hospital, Gurugram & Max Hospital, Delhi have withdrawn ECHS facilities w.e.f. 1st November 2017 & 1st December 2017 respectively. However, Max Hospital, Delhi resumed ECHS facilities later till 31st December 2017.

(c) & (d): Yes, Sir. Such complaints are resolved / sorted out by the intervention of ECHS officials. One case of such complaint is as under:

  • Complaint ID : 17128-892 (E).
  • Complainant : Raja Santosh, S/o Lt Col T. Raman (Retd), R/o Trichi (Tamil Nadu).
  • Date : 27th November 2017.
  • Against Hospital : Global Health City Hospital, Chennai.
  • Regional Centre : Chennai
  • Polyclinic : Chennai.
_________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

भारत सरकार
रक्षा मंत्रालय
भूतपूर्व सैनिक कल्याण विभाग
राज्य सभा
अतारांकित प्रश्न संख्या 1450
01 जनवरी, 2018 को उत्तर के लिए

ईसीएचएस से पैनलबद्ध अस्पतालों का अलग होना

1450. श्री राजीव चन्द्रशेखर :

क्या रक्षा मंत्री यह बताने की कृपा करेंगे कि :

(क) क्या पैनलबद्ध अस्पताल भूतपूर्व सैनिक अंशदायी स्वास्थ्य योजना से अलग हो रहे हैं;
(ख) यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है और इसके क्या कारण हैं ;
(ग) क्या सरकार को भूतपूर्व सैनिकों से अस्पतालों द्वारा अग्रिम भुगतान की मांग करते हुए मरीजों को भर्ती नहीं करने संबंधी शिकायतें प्राप्त हुई हैं ; और
(घ) यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है और ऐसे अस्पतालों के विरुद्ध सरकार द्वारा क्या कार्रवाई की गई है ?

उत्तर
रक्षा मंत्रालय में राज्य मंत्री (डा. सुभाष भामरे)

(क) और (ख): जी, हां । 169 अस्पतालों ने निम्नलिखित कारणों से एक वर्ष से अधिक की अवधि के लिए करार ज्ञापन पर हस्ताक्षर/उसका नवीनीकरण नहीं किया है :-

(i) निम्न सीजीएचएस दरें
(ii) चिकित्सा बिलों के संबंध में ईसीएचएस द्वारा उठाए गए प्रश्नों का कोई उत्तर नहीं जिसके फलस्वरूप बिलों का निरस्तीकरण हुआ ।

उपर्युक्त के अलावा, मेदांता अस्पताल, गुरुग्राम एवं मैक्स अस्पताल, दिल्ली ने क्रमशः 01 नवम्बर, 2017 एवं 01 दिसम्बर, 2017 से ईसीएचएस सुविधाएं वापस ले ली हैं । तथापि, मैक्स अस्पताल, दिल्ली द्वारा बाद में 31 दिसम्बर, 2017 तक ईसीएचएस सुविधाएं पुनः शुरू कर दी गईं ।

(ग) और (घ): जी, हां । ऐसी शिकायतों का समाधान/निवारण ईसीएचएस अधिकारियों के हस्तक्षेप द्वारा किया जाता है । ऐसी शिकायत का एक मामला निम्नानुसार है :-

  • शिकायत आईडी : 17128-892 (ई)
  • शिकायतकर्ता : राजा संतोष सुपुत्र लेफ्टिनेंट कर्नल टी. रमन (सेवानिवृत्त), निवासी त्रिचि (तमिलनाडू)
  • दिनांक : 27 नवम्बर, 2017
विरुद्ध
  • अस्पताल : ग्लोबल हेल्थ सिटी अस्पताल, चेन्नई
  • क्षेत्रीय केन्द्र : चेन्नई
  • पॉलिक्लिनिक : चेन्नई
Source: Rajya Sabha
Share:

No comments:

Post a Comment

Followers