Income tax return: इनकम सोर्स के आधार पर होते हैं 7 तरह के ITR फॉर्म, जानें आपके लिए कौन-सा है सही?

Income tax return: इनकम सोर्स के आधार पर होते हैं 7 तरह के ITR फॉर्म, जानें आपके लिए कौन-सा है सही?

seven-types-of-itr-form

जैसे-जैसे 31 जुलाई नजदीक आ रही है टैक्स पेयर्स गुणा-गणित करने में व्यस्त होते जा रहे हैं. खासकर वो टैक्स पेयर्स जिनको ITR इनकम टैक्‍स रिटर्न भरना है. सात तरह के ITR फॉर्म के चक्कर में उलझकर टैक्स पेयर्स इनकम टैक्स कंसल्टेंट के ऑफिसों के चक्कर लगा रहे हैं. क्या हैं ये सात तरह के ITR फॉर्म और आप इन्हें घर बैठे कैसे फाइल कर सकते हैं. इसके बारे में हम आपको सब कुछ बता रहे हैं.



सबसे पहले आपको इनकम बतानी होगी:अगर आप वित्त वर्ष 2017-18 लिए ITR फॉर्म-1 सहज भरने जा रहे हैं तो आपको सबसे पहले आपको सैलरी से होने वाली इनकम के बारे में जानकारी देनी होगी. इसके बाद किसी प्रापर्टी जैसे मकान, प्लाट, फॉर्म हाउस से होने वाली इनकम के साथ ही दूसरे भी इनकम सोर्स से होने वाली आय के बारे में बताना होगा. 

ऐसे घर बैठे भरें ITR फॉर्म:अगर आप घर बैठे ऑनलाइन ITR भरना चाहें तो यह विल्कुल आसान है. आइए आपको बताते हैं क्या करना और कैसे करना है. 

  1. सबसे पहले आपको http://www.incometaxindiaefilling.gov.in पर जाना होगा. 
  2. इसमें आपको यूजर आईडी, पासवर्ड और डेट ऑफ बर्थ की डिटेल देनी होगी. इसके बाद आपका अकाउंट बन जाएगा.
  3. अब आप लॉग इन करेंगे तो इनकम टैक्‍स रिटर्न ऑप्‍शन दिखाई देगा। यहां क्लिक करें. 
  4. अब आपको अपने लिए आईटीआर फॉर्म नाम, आकलन वर्ष और सबमिशन मोड का चयन करना होगा. 
  5. इस फॉर्म में सारी डिटेल भरकर ‘सबमिट ’ बटन पर क्लिक करना होगा.
  6. अब आपको एक मैसेज मिलेगा. आपकी आईटीआर सफलतापूर्वक जमा कर दी गई है और ITR-V उत्पन्न किया जाएगा. इस लिंक पर क्लिक कर आप इसे डाउनलोड करे लें, क्योंकि यह एक रिसिप्ट के रूप में कार्य करता है. ITR-V आपके रजिस्टर्ड ईमेल पर भी आएगा. 
  7. अगर आप इतना कर लेते हैं और रिसिप्ट पा लेते हैं तो समझिए कि आपने ITR भर दिया है. 
टैक्स कंसल्टेंट से ले सकते हैं मदद: जिन टैक्स पेयर्स को ऑनलाइन टैक्स भरने में परेशानी हो रही है या फिर जो टेक्नोफ्रेंडली नहीं हैं वो टैक्स कंसल्टेंट की मदद से ITR फॉर्म भर सकते हैं. इसके लिए उन्हें टैक्स कंसल्टेंट को थोड़ी फीस जरूर देनी पड़ेगी.

Read Also: Income Tax Return (ITR): Filling of Returns by every Government Servant
सात तरह के होते हैं ITR फॉर्म, कौन - किसको भरे 

1. ITR 1- अगर किसी इंडिविजुअल को वेतन, प्रॉपर्टी के किराए और पेंशन से आय प्राप्त होती है तो उसे ITR 1 या सहज फॉर्म भरना होगा. जिन लोगों की इन सोर्स से 50 लाख तक सालाना आय है वही ITR 1 सहज फॉर्म भर सकते हैं. इससे अधिक आय वाल इस फॉर्म को नहीं भर सकते.

2.ITR 2-ऐसे इंडिविजुअल जिनको कृषि के अलावा किसी प्रॉपर्टी के किराए, लॉटरी के अलावा अन्य स्त्रोतों से आय प्राप्त होता है उनको ITR 2 फॉर्म भरना होगा.

3. ITR 3-ऐसे इंडिविजुअल्स जिन्होंने साझेदारी में कोई बिजनेस कर रखा है. इससे मिलने वाली ब्याज या सैलरी या बोनस से आय प्राप्त होती है. इसके अलावा किसी प्रापर्टी से मिल रहे किराए से आय प्राप्त होती है. उन्हें ITR 3 फॉर्म भरना होगा. 

4. ITR 4-ऐसे इंडिविजुअल्स जिनकी आय का साधन कोई बिजनेस या फिर कोई प्रोफेशन है. जैसे डॉक्टर, वकील, फैशन डिजाइनर. ऐसे टैक्स पेयर्स को ITR 4 फॉर्म भरना होगा.

5. ITR 5-फॉर्म ITR 5 किसी इंडिविजुअल को नहीं भरना है. यह फॉर्म उन संस्थानों के लिए है जिन्होंने खुद को फर्म, LLPs, AOPs, BOIs के रूप में पंजीकृत करा रखा है. 

6.ITR 6-फॉर्म ITR-6 भी कंपनियों के लिए है. इसके दायरे में ऐसी कंपनियां आती हैं जिनको इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 11 के तहत छूट नहीं मिलती. उन्हें ITR-6 फॉर्म भरना होता है. 

7. ITR 7-यह फॉर्म इंडिविजुअलस और कंपनियों दोनों के लिए है. इसका लाभ वो इंडिविजुअल और कंपनियां दोनों ले सकते हैं जो सेक्शन 139(4A) या सेक्शन 139(4B) या सेक्शन 139(4C) या सेक्शन 139(4D) के तहत रिटर्न भरते हैं. 

Source: incometaxindiaefilling.gov.in
Share:

No comments:

Post a Comment

Followers